Sunday, 3 September 2017

सिनेमा हॉल का देश प्रेम

सिनेमा हॉल में फ़िल्म प्रारम्भ होने से पूर्व राष्ट्रगान बजाय जाना किस उद्देश्य की पूर्ति करता है, इस पर विचार होना चाहिए। राष्ट्रीय प्रतीकों का सम्मान करना हमारे मौलिक कर्तव्यों में शामिल है और इसमें कोई संदेह नही की राष्ट्रगान तथा अन्य राष्ट्रीय प्रतीक  हमेशा ही हमें देशभक्ति की भावना से सराबोर करते हैं। यह और बात है कि यह भावना 52 सेकंड तक ही रहती है। उसके बाद सब कुछ पहले जैसा चलता रहता है। वही निजी स्वार्थ, वही जुगाड़ू प्रवृति और वही दान दक्षिणा और चाय पानी की आड़ में भ्रष्टाचार।

ऐसे ही एक सिनेमा हॉल में फ़िल्म शुरू होने ही वाली थी। लोग अपनी सीट तक पहुचने की जद्दोजगड में थे, बच्चे इधर उधर भाग रहे थे। तभी राष्ट्रगान प्रारम्भ हुआ और सब सावधान की स्थिति में आ गए। बच्चों ने थोड़ी हलचल की तो उनके मां बाप स्वयं को शर्मिंदा महसूस करने लगे। भीड़ ने उन्हें गुस्से में घूरा कि कैसे नालायक, देशद्रोही बच्ची पैदा किये हैं। राष्ट्र गान खत्म हुआ। कुछ अति उत्साही लोगों ने भारत माता की जय के नारे लगाए। पर्दे पर शुरू होने वाली प्रेम कहानी से पहले माहौल देश प्रेम से भर गया।

फ़िल्म शुरू हुई। कुछ देर बाद नायक नायिका के रूमानी दृश्यों को देखकर वीर रस वाले युवा श्रृंगार रस में चले गए और दूसरे दर्जे के दर्शक तीसरे दर्जे वाली भाषा मे टिप्पणियां और कमेंटरी करने लगे। फ़िल्म खत्म होने के बाद वही लोग धक्का मुक्की करते हुए बाहर निकले। फिर सड़क पर जाकर उन्ही लोगो ने ट्रैफिक नियम तोड़े। ये सब करने वाले वही लोग थे जो अंदर राष्ट्रगान पर पूरे सम्मान के साथ सावधान की स्थिति में खड़े थे।

अब इसका दूसरा पहलू देखिए। सिनेमा हॉल में कोई सरकारी कार्यक्रम नही होता है। यहां पर राष्ट्रगान पर खड़े होकर न तो कोई बड़ा देशभक्त बन जायेगा और न ही बैठे रहने से देशभक्ति काम हो जाएगी। ऊपर से हर तरह की मतलब कि घटिया फिल्मो से पहले राष्ट्र गान बजाना तो एक प्रकार से उसका अपमान ही है। राष्ट्र प्रेम की भावना तो भीतर से आनी चाहिए । वह प्रतीकों की मोहताज नही होती। सच्चा देश प्रेम अगार जाग जाए तो भ्रष्टाचार, भाई भतीजावाद, साम्प्रदायिकता आदि समस्याएं कब की खत्म हो जाती।  पर उसमे मेहनत लगती है ना, पूर्वाग्रहों से बाहर निकलना और स्वार्थ त्यागना पड़ता है। राष्ट्रगान पर खड़े होना देशभक्त बनने का अपकेक्षकृत आसान तरीका है।

जनसत्ता 06 सितंबर 2017

http://www.jansatta.com/chopal/national-anthem-in-theater-hall-with-which-purpose/423297/


No comments:

Post a Comment